Tue. Jul 7th, 2020

हिन्दी आजकल

एक नई पहचान

पोर्न (Porn) साइट्स क्यों न जाएँ, बता रहे हैं 5 कारण

यदि आप भी पोर्न देखने के शौकीन हैं तो ये खबर आपके लिए ही है. नैतिक रूप देखना एक बिल्कुल अलग बहस है. लेकिन प्रिवेसी और सिक्यॉरिटी के ऐंगल से तो यह खतरे से बिल्कुल खाली नहीं है. इसके चक्कर में बड़े-बड़े सिक्यॉरिटी एक्सपर्ट्स मात खा जाते हैं. इसलिए पोर्न साइट्स क्यों न जाएँ, बता रहे हैं 5 कारण

1. यूजर ट्रैकिंग और प्रोफाइल

आप किस वेबसाइट पर क्या ऐक्शन ले रहे हैं और किस तरह के लिंक्स क्लिक करने में आपकी दिलचस्पी है. एजेंसियां यह ट्रैक करती हैं और इसी के आधार पर वे आपकी प्रोफाइल बनाती हैं. इन प्रोफाइलों का इस्तेमाल सिर्फ आपको आपकी रुचि के हिसाब से ऐड दिखाने के लिए करतीं हैं. वे एजेंसियां आपकी ब्राउजिंग हिस्ट्री में आपके उन विजिट्स का डेटा भी सहेजकर रख सकती हैं. इस फजीहत से बचने के लिए आमतौर पर इनकॉग्निटो विंडो खोल ली जाती है. ब्राउजर कुकीज़ हटा दी जाती हैं और ऐंटी-ट्रैकिंग एक्सटेंशन भी इन्स्टॉल किए जाते हैं. मगर इन दिनों हर दिन बदलती टेक्नॉलजी के साथ ये नुस्खे भी काम नहीं आते.

2. डेटा लीक और ब्रीच

चाहे वह असल पॉर्न साइट हो या कोई सामान्य ऑनलाइन डेटिंग साइट, आपकी हिस्ट्री को आपके खिलाफ इस्तेमाल किया जा सकता है. अडल्ट वेबसाइट्स पर विजिट करने से आपको ब्लैकमेलिंग या एक्सटॉर्शन का सामना भी करना पड़ सकता है. यहां सिर्फ रिवेंज पॉर्न की बात नहीं हो रही है. उन सभी यूजर्स से पूछिए, जिन्होंने ऐश्ली मैडिसन पर विश्वास किया. जब इस चैटिंग साइट का डेटा लीक हुआ तो लाखों जिंदगियां दांव पर लग गईं. इस सबके कारण कुछ लोगों को इतनी शर्मिंदगी उठानी पड़ी कि वे सूइसाइड जैसा कदम उठा बैठे.लोगों के सेक्शुअल प्रिफरेंस और जियॉग्रैफिकल डेटा भी सामने आ गया.

3. स्कैमर

आप सोचते होंगे कि इजीली आवेलेबल फ्री पॉर्न के बावजूद इसे पैसा देकर कौन देखता होगा. लेकिन अधिकतर पॉर्न खरीदने वाले वे होते हैं जो कुछ खास कैटिगरी का पॉर्न देखना चाहते हैं. जो इतना रेयर है कि उसे देखने का चार्ज लगता है. लोगों की इन्हीं इच्छाओं का फायदा ये स्कैमर उठाते हैं. सस्ते या फ्री ट्रायल्स के लालच में आकर कई लोग स्कैम सब्स्क्राइब कर ढेर सारा पैसा उड़ा बैठते हैं.

4. फ्रॉड

अडल्ट साइट ब्राउज करने पर कई मैलवेयर आपका सिस्टम लॉक कर देते हैं और मनचाही मांगें पूरी करने के लिए कहते हैं. वे आपकी पॉर्न हिस्ट्री जगजाहिर करने की धमकी देते हैं. और इस तरह की स्थितियों से बचाने के एवज में आपसे पैसे मांगते हैं.

5. मैलवेयर

मैलवेयर और भी गंभीर मुद्दा है जो अडल्ट वेबसाइट ब्राउज करने के वक्त आपके सामने आता है. पाइरेटेड चीजें डाउनलोड करते वक्त भी ये आपपर हमला कर सकता है. अच्छी अडल्ट साइट से कभी परेशानी नहीं होती. दिक्कत दरअसल मैलवर्टाइजिंग से होती है. एक गलत क्लिक से आप वायरस, ट्रोजन, वर्म या ऐसे संदिग्ध सामान डाउनलोड कर बैठते हैं. इस तरह के मैलवेयर से बचने के लिए बार-बार सिस्टम स्कैन करते रहना जरूरी है.