Fri. Dec 4th, 2020

हिन्दी आजकल

एक नई पहचान

ये 6 बातें जानकर आप भी हैकर्स को मात दे सकते हैं

ये 6 बातें जानकर आप भी हैकर्स को मात दे सकते हैं

दैनिक जीवन के विभिन्न कार्यों में इंटरनेट का प्रभाव दिन-प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है. इस बात को ध्यान में रखते हुए इसके खतरे के प्रति भी सचेत रहना चाहिए. बिल जमा करने, पेमेंट करने, खरीददारी करने आदि में इंटनेट का प्रयोग बढ़ता जा रहा है. इसके लिए हमें विभिन्न वेबसाइट्स और ऐप्स पर खाते एवं कार्ड आदि की जानकारियां अपने खाते में डालनी पड़ती हैं. ये सभी अकाउंट्स पासवर्ड्स के माध्यम से सुरक्षित रखे जाते हैं. इन ऑनलाइन अकाउंट्स में बहुत महत्वपूर्ण डेटा स्टोर रहता है. इसलिए जरूरी है कि इसे पूरी तरह सेफ रखा जाए. 

ये 6 बातें जानकर आप भी हैकर्स को मात दे सकते हैं.

1. जटिल पासवर्ड चुनिए


आपका पासवर्ड जितना ज्यादा जटिल और लम्बा होगा उतना ही बेहतर है. क्योंकि हैकर्स के लिए उसका अंदाजा लगाना मुश्किल होता है. हैकर ऐसे प्रोग्राम बनाते हैं जो अपने आप ऐसे पासवर्ड डालकर हैकिंग की कोशिश करते रहते हैं. बेहतर होगा कि आप लेटर, नंबर और कैरक्टर्स की मदद से स्ट्रॉन्ग पासवर्ड बनाएं.

2. एक ही पासवर्ड रिवाइज्ड करने से बचें

सभी साइट्स या ऐप्स के लिए एक जैसा पासवर्ड यूज़ करने से बचें. क्योंकि यदि एक पासवर्ड हैकर्स को पता चल गया तो आपकी सभी जगहों के डाटा खतरे में आ जाएगा. यदि भरोसा हो तो आप LastPass या DashLane जैसी पासवर्ड मैनेजर सर्विसेज इस्तेमाल कर सकते हैं. ये आपके पासवर्ड्स को याद रखती हैं. ऐपल सफारी और गूगल क्रोम में बिल्ट-इन पासवर्ड मैनेजर होते हैं.

3. प्रत्येक 2-3 महीने में बदलते रहें पासवर्ड


पासवर्ड्स को बदलते रहना भी जरूरी है. जिस तरह से आप कुछ महीनों में टूथब्रश बदलते हैं, उसी तरह से अपना पासवर्ड भी बदला कीजिए. अगर किसी साइट पर आप एक पासवर्ड को लंबे वक्त तक रखते हैं तो उसका गलत हाथों में जाने का खतरा रहता है.

4. OTP का करें इस्तेमाल

मल्टी-फैक्टर आइडेंटिफिकेशन में यूजर्स को आइडेंटिफिकेशन के लिए फोन पर आने वाला वन टाइम पासवर्ड (OTP) का इस्तेमाल कर सकते हैं. इससे यह होता है कि हैकर्स अगर आपका पावसर्ड चुरा भी लें, तो भी कुछ नहीं कर पाएंगे क्योंकि लॉगइन करने के लिए उन्हें आपके फोन पर आने वाला पासवर्ड डालना होगा.

5. ढेर सारे अकाउन्ट्स का झंझट न पालें

इस्तेमाल न होने वाले अकाउन्ट्स को डिलीट या डिऐक्टिवेट कर दें. पिछले दिनों माइस्पेस ने कहा कि हैकर्स ने 11 जून 2013 से पहले बने उसके अकाउंट्स की लॉगइन इन्फर्मेशन को बिक्री के लिए रखा है.

6. अरेंज रखें सोशल मीडिया को

जहाँ तक हो सके सोशल मीडिया में वास्तविक दोस्तों को ही जोड़ें. फेसबुक वक्त-वक्त पर नोटिफिकेशन देता है कि अपनी प्रिवेसी सेटिंग्स रिव्यू करें और देखें कि कौन-कौन आपकी इन्फर्मेशन देख सकता है. आपकी पर्सनल डीटेल्स पर नजर रखकर हैकर आपसे पासवर्ड का अंदाजा लगा सकते हैं. इसलिए पर्सनल इन्फर्मेशन की सेटिंग्स ऐसी कर दीजिए कि उसे आप या आपके दोस्त ही देख पाएं.